kavita

asato ma sadgamaya

139 Posts

14223 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2387 postid : 729215

न�������र���!! तुम ही....

Posted On: 8 Apr, 2014 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

तुम ���न������या तुम ���ा�����������������या
तुम ���ारी ������������ ल���्���ा ������ ���������������
तुम स������र्���िनी तुम अर्पिता
तुम पूर्ण नारीश्वर गर्विता

उत्तरदायि���्वो��� की तुम न���������र्वाहिनी
तुम ही प���रुष की चिरसंगि���ी
तुम ���ौन्दर्य बोध से परिप�����र्णा
तुम से ही ध���ित्री आभरणा

तुम ही स्व���्न की को���ल कामिनी
तुम������ सजी है �������िवा औ’यामिनी
शिशु हितार्थ पूर्ण जगत हो तुम
गृहस्थ की परिपूर्ण���ा ���ो तुम

तुमसे ये धरा है च�����्चला
जननी रूप मे तुम नि���्मल���
कभी कठोर पाष���ण हृदय से रंजित
कभी करूणामयी ���ृ���य वि���लित

कभी तुम अतस���-रूपसी सौ�����्दर���य���
कभ��� हुंका���ित रण-���ी��������ं���न���
हे नारी!! तुम ही �����ृष्टिक���्������
तुमसे ही ���म���भ��������� पु���ुष-प्रकृति �������������्ता

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Ellyanna के द्वारा
July 12, 2016

I really wish there were more arlectis like this on the web.


topic of the week



latest from jagran