kavita

asato ma sadgamaya

139 Posts

14223 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2387 postid : 569301

क���व����� मेरे लिए

Posted On: 21 Jul, 2013 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

���न ������������ं क��� कशि��� को महसूस किय��� था ������ं������
न������������� प्��������� क��� अहसास था मुझे
जो गीत गुनगुनाया था तुमने
वो बोल भी भुलाया न गया मुझसे
आसमान से �������ो बूंदे गिर��� थी वो
मु���े छूकर यही कह ���ही थी
चलो भीगते हु��� उन लम्हों को पकड़ ले
कहीं छू��� न जाये वो बचपन के रिश्ते

वो पत्थरों से खेलना ….कागज़ की कश्ती
में खुद को बहाना
चोर निगा���ों से तु���्हारा मुझे निहारना
दुप���्टे से गीले बालों को पोंछना
फिर अगले दिन का ���ादा लेकर
आँखों से ओझल ह��� जाना
कुछ भी भुलाया नहीं गया मुझसे

आज फिर से आसमान पिघल रहा है
कांच की ब������दें ज़म�����न प��� बिखरी पड़ी है
कागज़ की त���ा����� कश्ति��������ँ कि�����ारे
ढूँढती ���ुई राह भट����� ��������ी
व��� धूप का कोना भी फिर से सतरंगी हो रहा है
अक्सर वो धु��� जहन में आ जाता है
जो तुमने कभी गुनगुनाया था
क���वल मेरे लिए

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Lena के द्वारा
July 11, 2016

At last, sonmeoe who knows where to find the beef


topic of the week



latest from jagran