kavita

asato ma sadgamaya

139 Posts

14223 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2387 postid : 373

मित्रता दृढ़ता से धर !

Posted On: 25 Jun, 2012 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मन के तम को दूर ���र

गम को मन से परे कर

हृदय से हृदय मिला ले

आज मित्रता के गीत गा ले !


अग्निशापित ���ृदय से

राग-द्व���ष के कलंक से

खुद को तू स्वतंत्र कर

मित्रतादार्श स्थापित कर !




���े����� मन का मिटा ���े

���ेह-नश्वर जान ले

अश्रु बूँद न व्यर्थ कर

मित्रता दृढ़ता से धर !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

34 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Molly के द्वारा
July 12, 2016

It’s like you’re on a misosin to save me time and money!

yogi sarswat के द्वारा
June 28, 2012

अग्निशापित हृदय से राग-द्वेष के कलंक से खुद को तू स्वतंत्र कर मित्रतादार्श स्थापित कर ! सुन्दर शब्द , आदरणीय अनामिका जी !

    Coralyn के द्वारा
    July 12, 2016

    Tapez votre commentaire Vous pouvez utiliser ces mots-clés HTML : <a> <abbr> <acronym> <b> &legolbckquott&;t; <cite> <code> <del> <em> <font> <i> <q> <span> <strike> <strong> ////

Mohinder Kumar के द्वारा
June 28, 2012

अनामिका जी, गूढ संदेश देती कविता.. ऐसा संदेश जिसकी आज के समय में सब से अधिक आवश्यकता है… लिखती रहिये.

roshni के द्वारा
June 27, 2012

Anamika ji namskar hamesha ki tarah apki kavita ek sandesh deti hui.. sunder .. भेद मन का मिटा दे देह-नश्वर जान ले अश्रु बूँद न व्यर्थ कर मित्रता दृढ़ता से धर ! har pankit sunder badhai

yamunapathak के द्वारा
June 27, 2012

भाव और अनुकूल कोमल शब्द ने आप के सन्देश को बेहद मुखर कर दिया है अनामिकाजी. शुक्रिया

rajuahuja के द्वारा
June 25, 2012

मन की बात मन को ही कहने दो ! कर्तव्यों की वेदी पर , थके पग , त्यक्त पाते हैं , स्वयं को ! राग-द्वेष ,भेद , कर दर-किनार , आत्मभव ! मन को , मनस्थ रहने दो ! मन की बात , मन को ही कहने दो !

    Emeline के द्वारा
    July 12, 2016

    Le banni n’est pas cette bande dessinée. Le banni a été créé dans fluide glacial en 1982. Il est rÃeinlgèrem©ut publié en album et est visible sur ce lien Prendre ce nom de personnage et ce titre est une bien singulière idée.

अजय कुमार झा के द्वारा
June 25, 2012

बहुत ही सुंदर प्रेरणादायी पंक्तियां

vikramjitsingh के द्वारा
June 25, 2012

आदरणीय अनामिका जी…सादर… अच्छी कविता है….अगर ‘मित्रता’ शब्द की जगह….’प्रेम’ शब्द का प्रयोग होता तो शायद और उत्तम होता…… सादर…

    Nelly के द्वारा
    July 12, 2016

    In the USA many states allow the carrying of concealed weapons by those who have been tested and licensed to do so. Thugs do not know who may be armed and thus must act with an amount of uniretacnty as to the likely outcome of their actions.I have yet to hear about a situation in the U.S. similar to that mentioned on the peeing excursion, but do expect it to happen eventually.

UMASHANKAR RAHI के द्वारा
June 25, 2012

बधाई दीदी सुन्दर रचना

    anamika के द्वारा
    June 25, 2012

    धन्यवाद् …भाई

    Lizabeth के द्वारा
    July 12, 2016

    Barbi: köszi! neked inkább privátban írok majd! :) A biciklizést már észre se veszem. Mindennap ráoÃcds¡lkozik valaki a munkahelyen mikor mondom, hogy honnan tekerek. Nekem már nagyon természetes. :) Tessék pihenni, nyaralni!! :)


topic of the week



latest from jagran