kavita

asato ma sadgamaya

139 Posts

14223 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2387 postid : 234

आप सबको तीज की ढेर सारी बधाइयां ......हार्दिक शुभकामनाये इस अवसर पर एक स्तुति प्रस्तुत कर रही हूँ

Posted On: 2 Aug, 2011 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हे ईश मैं शीश नवाती हूँ
चरण वंदन मैं करती हूँ
मन के हर कोने को रोशन
कर दो-ये वर दे दो प्रभू

इच्छा की कोई सीमा नहीं
कामनाओं का कोई छोर नहीं
पर जगहित ही हो जिसमे
उस इच्छा को पूर्ण करो प्रभू

इस गलती के पुतले को
मात्र प्राणी न रहने दो
मानव बन जाऊं मैं भी
मानवता मुझमे लाओ प्रभू

छल-कपट से भरे मन में
सादगी का ज्योत जलाऊँ मैं
मूंह न थके हरिनाम करते
ऎसी सम्मति बन जाए प्रभु

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran