kavita

asato ma sadgamaya

139 Posts

14223 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2387 postid : 200

साजन तुम हो कहाँ

Posted On: 17 Apr, 2011 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

देखो काली घटा है घिर आया
नाव किनारे को है चल पडा
बादल है गरजा तूफ़ान भी लरजा
मेरे साजन तुम हो कहाँ ?

.

सन-सन बहे ये पागल पवन

बिजली से आलोकित है गगन

क्या करूँ घर में मैं सजन

जिया धडके कभी रुके धड़कन

घन बरसे सैलाब है बहे

मेरे साजन तुम हो कहाँ ?

.

तूफ़ान उत्ताल नाव भी डोले

ये घरबार तूफ़ान ले उड़े

अब की बार न जाने दूं सजन

है मेरा-तुम्हारा अटूट बंधन

.

घनघोर अँधेरा द्वार है खुला

ऐसे में सजन तुम

आखिर हो कहाँ ?

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

336 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran