kavita

asato ma sadgamaya

139 Posts

14223 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2387 postid : 158

तृष्णा

Posted On: 15 Nov, 2010 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इन बारिश की बूंदों को
तन से लिपटने दो
प्यासे चातक का
अंतर्मन तरने दो

बरसो की चाहत है
बादल में ढल जाऊं
पर आब-ओ-हवा के
फितरत को समझने दो

फिर भी गर बूंदों से
चाहत न भर पाए
मन की इस तृष्णा को
बादल से भरने दो

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Lavinia के द्वारा
July 12, 2016

fairly in#m0esting&t823r;Extreeely attractive items you’ve stated, thanks pertaining to enable these phones posting. “Jive Woman Simply have totally free arteries. She likely for them to handa a rebound in line with the med section. inch by simply Airplane….

rajeev dubey के द्वारा
November 29, 2010

कविता तो है ही अच्छी, पर क्या आप चित्रकार भी हैं ?

Piyush Pant, Haldwani के द्वारा
November 15, 2010

इस सुन्दर रचना के लिए बधाई………

atharvavedamanoj के द्वारा
November 15, 2010

फिर भी गर बूंदों से चाहत न भर पाए मन की इस तृष्णा को बादल से भरने दो vaah anaamika ji vaah ……maine ek sher likha hai arj farmayen…. dil jo jagta hai aankh soti hai. arsh par dheron khwab boti hai. ek titali ki pyas se badhkar.. ek bhaware ki pyas hoti hai

    anamika के द्वारा
    November 16, 2010

    ज़र्रानवाज़ी के लिए शुक्रिया …..वैसे आपकी शायरी भी लाजवाब है

roshni के द्वारा
November 15, 2010

अनामिका जी काफी दिनों बाद आप की रचना पढकर अच्छा लगा …. बहुत सुन्दर और कम शब्दों से मन की चाहत को बयाँ कर दिया ….. धन्यवाद सहित

    anamika के द्वारा
    November 16, 2010

    मेरे शब्द आपको पसंद आए ……..धन्यवाद

rajeevvarshney के द्वारा
November 15, 2010

अत्यंत सुंदर शब्दों में वर्षा ऋतू का चित्रण किया है. बधाई…….. राजीव वार्ष्णेय

    Nelly के द्वारा
    July 12, 2016

    Thanks for the sensible crituqie. Me and my neighbor were just preparing to do some research on this. We got a grab a book from our area library but I think I learned more clear from this post. I am very glad to see such fantastic info being shared freely out there.

Coolbaby के द्वारा
November 15, 2010

very beautiful ! But Catch me cold :-) Bless you God


topic of the week



latest from jagran