kavita

asato ma sadgamaya

139 Posts

14223 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2387 postid : 102

रात का सूनापन

Posted On: 3 Sep, 2010 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

raat

रात का सूनापन

मेरी जिन्दगी को सताए

दिन का उजाला भी

मेरे मन को भरमाये

क्यों इस जिन्दगी में

सूनापन पसर गया

खिलखिलाती ये जिन्दगी

गम में बदल गया

आना मेरी जिन्दगी में तेरा

एक नया सुबह था

वो रात भी नयी थी

वो वक्त खुशगवार था

वो हाथ पकड़ कर चलना

खिली चांदनी रात में

सुबह का रहता था इंतज़ार

मिलने की आस में

पर जाने वो हसीं पल

मुझसे क्यों छिन गया

जो थे इतने पास-पास

वो अजनबी सा बन गया

मेरे अनुरागी मन को

बैरागी बना दिया

रोग प्रेम का है ही ऐसा

कभी दिल बहल गया

कभी दिल दहल गया

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

9 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

manishgumedil के द्वारा
September 5, 2010

मेरा दिल कहता है – बहुत ही खूबसूरती से पेश की गयी कविता को नमन………….. श्रधा और विश्वास का, एक अधूरी प्यास का, यह संगम है अनुराग का, एक मिलन की आस का, रोग प्रेम का है ही ऐसा कभी दिल बहल गया कभी दिल सभल गया..

roshni के द्वारा
September 4, 2010

अनामिका जी बहुत सुन्दर कविता बैरागी बना दिया रोग प्रेम का है ही ऐसा कभी दिल बहल गया कभी दिल दहल गया…. बधाई सुन्दर रचना के लिए…

    anamika के द्वारा
    September 4, 2010

    धन्यवाद

    Twiggy के द्वारा
    July 12, 2016

    Je pense que Keynes était l’rÃpeitrn©tation la plus réaliste de la psychologie des participants à l’économie libre et ne croyait pas à des changements droites ou linéaire en chiffres (taux, salaires). Le facteur de la psychologie j’étais l’élément essentiel de sa théorie sur le fonctionnement du marché libre. Je ne pense pas que les dilemmes, mais d’exprimer son point de vue beaucoup plus que ceux de Hayek!

Ramesh bajpai के द्वारा
September 4, 2010

आना मेरी जिन्दगी में तेरा एक नया सुबह था वो रात भी नयी थी वो वक्त खुशगवार था अनामिका जी सुन्दर भावनाओ की बहुत सुन्दर अभिवयक्ति

    anamika के द्वारा
    September 4, 2010

    उत्साह वर्द्धन के लिए शुक्रिया……….

Piyush Pant के द्वारा
September 3, 2010

एक और सुन्दर रचना के लिए बधाई……………….

    anamika के द्वारा
    September 4, 2010

    कुछ दिनों से घर पर ही समय बिता रही हूँ ……..ऐसे में कविता लिखने का शौक पूरा कर रही हूँ

आर.एन. शाही के द्वारा
September 3, 2010

जल्दी-जल्दी इतनी सारी रचनाएं दे पाने की आपकी क्षमता अद्भुत है ।


topic of the week



latest from jagran